Monday, February 6, 2023
spot_img

कोडार उलट नाले में अज्ञात शिकारियों ने बिछाया था, चपेट में आए दंतैल की मौत

जिले में वन्य प्राणियों शिकार का जारी, नहीं थम रहा मौत का सिलसिला,

 
महासमुंद। कोडार जंगल और नहर के मध्य वन्य प्राणियों के शिकार के लिए शिकारियों द्वारा बिछाए गए बिजली करंट तार जाल की चपेट में आने से शनिवार रात क्षेत्र में विचरण कर रहे दो दंतैल में से एक की मौत हो गई। वन विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर जांच में जुट गई है।  
          डीएफओ पंकज राजपूत से मिली जानकारी के अनुसार करीब तीन दिन पूर्व गरियाबंद जिले के फिगेंश्वर वन परिक्षेत्र से दो दंतैल भोजन-पानी की तलाश में यहंा जिले के जिवतरा जंगल में पहुंचे थे। शनिवार सुबह हाथियों को उक्त जंगल से निकलकर लोहारडीह और कोडार बांध से लगे वन विकास निगम जंगल के कक्ष क्रमांक 854, 855, 856 और 857 में विचरण करते देखा गया था। देर शाम दोनों दतैल लोहारडीह के जंगल से निकलकर सिरपुर की ओर जाने के लिए निकले थे। रात करीब 9 बजे दंतैल कोडार बांध के उलट नाले को पार कर रहे थे। वन्यप्राणियों के शिकार के लिए नहर किनारे 11 केव्ही के विद्युत पोल से हुकिंग कर बिछाए गए करंट जाल की चपेट में हाथी एमई 5 आ गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बता दें कि गरियांबद से आए दो दंतैल पिछले दो दिनों से जिवतरा और कोना पहाड़ी जंगल के कक्ष क्रमांक 77, 78 और 79 में डेरा जमाए हुए थे। शुक्रवार को दोनों जंगल से निकलकर पास में लगे दलदली जंगल के कक्ष क्रमांक 438 में विचरण कर रहे थे।
हादसे से हुआ शिकारियों के जाल का खुलासा हादसे के बाद वन विभाग की टीम ने मौके का मुआयना किया तो पता चला कि अज्ञात शिकारियों ने वन्यप्राणियों के शिकार के लिए नहर के अलावा आसपास में 11 केव्ही के पोल से हुकिंग कर जीआई तार के माध्यम से करंट का जाल बिछाकर रखा था। हाथी के चपेट में आने के बाद ग्रामीण नहर के आसपास चिंगारी उठते देख वन विभाग को सूचना दी। विभाग ने विद्युत विभाग से विद्युत आपूर्ति बंद कराई। जब तक टीम मौके पर पहुंचती हाथी की मौत हो चुकी थी। घटना से वन विभाग की जंगलो में गश्ती पर सवाल उठ रहे है ?
अब एमवी 1 हो सकता है हिंसक, रहें सतर्क
डीएफओ पंकज राजपूत ने बताया कि गरियाबंद जिले से यहां जिले में आए दोनों दंतैल महासमुंद में रह चुकें हैं। इसमें से मृत हाथी एमई 5 है जबकि साथी एमई 1 है जो घटना के बाद से आगे बढ़ते हुए सिरपुर की ओर जा चुका है। विभाग का मानना है कि उक्त हाथी की मौत के बाद एमई 1 हिंसक हो सकता है, इससे सतर्क रहने की आवश्यकता है इसलिए क्षेत्र में अलर्ट जारी कर दिया गया है। श्री राजपूत ने बताया कि एमई हाथी ने महासमुंंद में 3, गरियाबंद में 2 और धमतरी में करीब 3-4 लोगों को मारा है।  

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,702FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles