13.1 C
New York

प्लांट के खिलाफ 199 दिन से ग्रामीण कर रहे सत्याग्रह, ग्रामीणों का आरोप प्रशासन उदासीन

Published:


महासमुंद। ग्राम पंचायत खैरझिटी और कौंवाझर के मध्य प्रस्तावित करणीकृपा प्लांट के विरोध में ग्रामीणों का पिछले 199 दिन से सत्याग्रह जारी है। सत्याग्रह को मंगलवार को 200 दिन पूरे हो जाएंगे। इधर, प्रशासन से लिखित और मौखिक शिकायत के बाद भी मामले कार्रवाई नहीं होने से ग्रामीण नाराज है।
ग्रामीणों का आरोप है कि खैरझिटी, कौंवाझर, मालडीह के कृषि भूमि,गरीबों का काबिल कास्त भूमि, आदिवासी भूमि, शासकीय भूमि में गैर कानूनी ढंग से करणीकृपा स्टील एवं पावर प्लांट लगाया जा रहा है। जिसके विरोध में विगत 25 फरवरी 2022 से ग्रामीण और किसान छत्तीसगढ़ संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले अखण्ड सत्याग्रह पर है। सत्याग्रह के कार्यकर्ताओं का नेतृत्व युवा किसान नेता तारेंद्र यादव उप सरपंच, उदयराम चंद्राकर, नंदलाल पटेल,नंदकिशोर यादव, नंदलाल सिन्हा,रमेश विश्वकर्मा द्वारा किया जा रहा है। औद्योगिक प्रदूषण से पूरा अंचल को सुरक्षित रखने के लिए गांधीवादी तरीके से जनआंदोलन किया जा रहा है। जब तक जिला प्रशासन और शासन अपनी हठधर्मिता छोड़कर गैर कानूनी ढंग से निर्माणाधीन करणीकृपा स्टील एवं पावर प्लांट उद्योग को निरस्त नहीं करेगा। तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। आने वाली पीढ़ी को और क्षेत्र के हरियाली और खुशहाली को बर्बादी से बचाने के लिए यह आंदोलन चल रहा है। इसमें किसानों की ही जीत होगी ही। किसान नेता तुषार साहू ने कहा कि एक न एक दिन महासमुंद जिला प्रशासन को झुका कर ही रहेंगे।अभी तो काम बंद है आगे इस उद्योग को निरस्त करा कर ही छोड़ेंगे।

Related articles

spot_img

Recent articles

spot_img