13.1 C
New York

पांच दिवसीय कलमबंद आंदोलन दफ्तर और स्कूलों में तालाबंदी

Published:

महासमुंद। फेडरेशन के प्रांतीय आह्वान पर अधिकारी-कर्मचारी आज से आयोजित पांच दिवसीय कलमबंद आंदोलन पर हैं। इसका असर मुख्यालय सहित जिलेभर में देखने को मिला। आंदोलन के चलते तमाम सरकारी दफ्तर और स्कूलों में ताला लगा रहा। आगामी 31 जुलाई तक जिलेभर में दफ्तर और स्कूलों में तालाबंदी रहेगी। महंगाई भत्ता की एक सूत्रीय मांगों को लेकर जिले के अधिकारी-कर्मचारी सभी ब्लॉक मुख्यालयों में धरनारत हैं। यहां मुख्यालय के लोहिया चौक में फेडरेशन के बैनर तले अधिकारी-कर्मचारियों ने धरना दिया और मांग को लेकर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आंदोलन को फेडरेशन की संयोजक एस चंद्रसेन, टेकराम सेन, नारायण चौधरी, अशोक गोस्वामी, ईश्वर चंद्राकर, मनीष ठाकुर सहित अन्य लोगों ने संबोधित किया। उन्होने कहा कि केन्द्र के समान महंगाई भत्ता की स्वीकृति के बाद भी राज्य के कर्मचारियों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है जिसके चलते उन्हें आर्थिक नुकसान हो रहा है। मुख्यालय में आयोजित धरने में बड़ी संख्या में अधिकारी-कर्मचारी शामिल रहे। स्कूलों में लगा रहा ताला आंदोलन में शिक्षक संघ, सहायक शिक्षक संघ सहित शिक्षा विभाग के अधिकारी-कर्मचारी शामिल हैं। जिसके चलते आज मुख्यालय के अलावा जिले के अमूमन स्कूलों के साथ शिक्षा विभाग के कार्यालयों में तालाबंदी की स्थिति रही। मुख्यालय में गंजपारा प्राथमिक शाला, आदर्श बालक शाला, बृजराज पाठशाला, कलाबाई स्कूल सहित अन्य सरकारी स्कूलों में भी ताला लटकता रहा। राजस्व-पालिका दफ्तर रहे बंद फेडरेशन में करीब 48 अधिकारी-कर्मचारी संगठन शामिल है जिसके चलते मुख्यालय ही नहीं जिले के सभी दफ्तरों में ताला लगा रहा। मुख्यालय के राजस्व कार्यालय, सहित अन्य कार्यालयों में ताला लटकता रहा। इधर, नपा कर्मी भी महंगाई भत्ते की मांग को लेकर फेडरेशन के आह्वान पर रायपुर में आयोजित प्रदेश स्तरीय धरने में शामिल होने गए हैं। जिससे पालिका दफ्तर में भी ताला लटका रहा। अधिकारी-कर्मचारियों के अंादोलन में जाने का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ा।

Related articles

spot_img

Recent articles

spot_img