Thursday, December 1, 2022
spot_img

देवर को बर्बाद होता देखने के लिए उसके बेटे विराट के अपहरण की साजिश रची थी बड़ी मां ने, पांच करीबियों किया था शामिल

पुलिस जांच में हुआ खुलासा

बिलासपुर। विराट अपहरण कांड की साजिश किसी और ने नहीं बल्कि विराट की ही बड़ी मां ने पांच लोगों के साथ मिलकर की थी। मामले का खुलासा पुलिस की जांच में हुआ है।
बता दें कि न्याय की नगरी बिलासपुर में बीते 20 अप्रैल 2019 को करबला में भाजपा कार्यालय के सामने निवासरत बर्तन व्यवसायी विवेक सराफ के बेटे विराट के अपहरण का मुख्य साजिशकर्ता उसी की बड़ी मां नीता सराफ थी। वह अपने देवर को बर्बाद होते देखना चाहती थी। इसके लिए उसने अपने करीब अनिल सिंह को शामिल किया। उसने अपहर्ताओं को 6 करोड़ रुपए फिरौती मांगने की सलाह दी थी। कांड के मुख्य आरोपी राजकिशोर सिंह अपने साथी रतनपुर निवासी सतीश शर्मा, बिहार भोजपुर निवासी हरेकृष्ण राय व यदुनंदन नगर निवासी अनिल सिंह राजपूत के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया था। घटना के 6 दिन बाद 26 अप्रैल 2019 की सुबह विराट को पन्ना नगर से बरामद किया था। इस बीच 128 घंटे उसने अंधेरे कमरे में गुजारे, कुर्सी पर सोया। दो समय सिर्फ बिस्किट खाकर गुजारा किया। नीता के घर अनिल सिंह का आना जाना था। अपहरण की साजिश रची जा रही थी तो नीता ने ही अनिल से विराट के नाम का सुझाव दिया था। रिश्तेदार होने के कारण नीता का विवेक के घर आना जाना था। इधर, अनिल सिंह भी विवेक को जानता था। अनिल ने राजकिशोर सिंह को बताया। फिर मिलकर सभी ने इस कांड को अंजाम दिया।
अपहरणकर्ताओं ने विराट से ही लिया था पिता का नम्बर
अपहरणकर्ताओं ने साजिश के तहत विराट को सिविल लाइन क्षेत्र के पन्नानगर में एक कमरे में बंद रखा गया था। उसके साथ एक युवक 24 घंटे रहता था। खाने के लिए उसे केवल दो टाइम बिस्किट मिलता था। घर जाने के लिए कहने पर मारपीट की जाती थी। अपहरणकर्ता कहते थे उसके पिता को बुलाया गया है। वे आकर ले जाएंगे। विराट से ही पिता का नंबर लिया था। विराट को रोने से भी मना किया गया था। घर से ले जाते समय शोर मचाया तो मारपीट की गई।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,589FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles