16.2 C
New York

इस वर्ष की बारिश ने तोड़ा पिछले वर्ष की बारिश का रिकार्ड, जानिए कितनी हुई है बारिश और क्या है वजह

Published:

अब तक पिछले साल से 110 मिमी अधिक वर्षा



महासमुंद। इस वर्ष हुई बारिश ने पिछले साल हुई बारिश का रिकार्ड तोड़ दिया है। सावन में हुई बारिश ने आषाढ़ का कोटा पूरा कर दिया है। वर्षा के आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक 110 मिमी अधिक बारिश हो चुकी है।
जिले में पिछले वर्ष 9 अगस्त की स्थिति में हुई बारिश के आंकड़ों पर नजर डालें तो महासमुंद, सरायपाली, बसना, बागबाहरा में कही बारिश नहीं हुई थी केवल पिथौरा 10 मिमी बारिश हुई थी। वही 1 जून से 9 अगस्त की स्थिति में महासमुंद में 534, सरायपाली 504, बसना 526, पिथौरा 374 और बागबाहरा में 606 मिमी बारिश हुई थी। वही इस वर्ष आज की स्थिति में बारिश की बात करें तो महासमुंद में 14, सरायपाली 12, बसना 19, पिथौरा 44 और बागबाहरा 26 मिमी बारिश हुई थी। जिले में 1 जून से अब  सर्वाधिक बारिश महासमुंद 836 सबसे कम बागबाहरा 453 मिमी हुई है। इसके अलावा बसना 683, पिथौरा 628 और सरायपाली में में 494 मिमी बारिश हुई है।

क्या है बारिश की वजह

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि निम्र दाब के क्षेत्र के साथ चक्रीय चक्रवाती घेरा अवदाब के रुप में परिवर्तित होने की संभावना है तथा पश्चिम-उत्तर दिशा की ओर आगे बढ़ते हुए ओडि़शा और छग की ओर जाने की संभावना है। जिससे कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम और भारी बारिश होने की संभावना है। कल गुरुवार को शाम के बाद बारिश थमने की संभावना है। विभाग ने आगामी 24 घंटों में हल्की से मध्यम भारी बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग ने दक्षिण-पूर्व में द्रोणिका और निम्र दाब का क्षेत्र बनने तथा एक निम्र दाब का क्षेत्र उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी और पश्चिम-मध्य से लगे बंगाल की खाड़ी में के तटीय ओडि़शा और आंध्र प्रदेश पर स्थित होने को बताया है।

Related articles

spot_img

Recent articles

spot_img